कोरोना के नियंत्रण में राष्ट्र की भूमिका पर निबंध l Corona Essay in Hindi

Corona essay in hindi
Corona essay in Hindi

इस आर्टिकल में मैंने कोरोना के नियंत्रण में राष्ट्र की भूमिका पर निबंध बताई है। जो कि परीक्षा में आ सकती है।


 Essay on coronavirus in Hindi for exam purpose


21वीं सदी के प्रारंभिक महीनों में ब कोरोना का आतंक भारत की धरती पर पैर रखी, तो मानो ऐसा एहसास हुआ की भारत इसे आसानी से नियंत्रित कर लेगा । भारत के केरल राज्य में इटली के एक पर्यटक के रूप में कोरोना का पहला मरीज का पता चला पता चलते ही देश में कोरोना बढ़ने की आशंका बढ़ गई देश के नीति निर्धारकों की रणनीति के बाद 18 मार्च को 24 घंटे का जनता कर्फ्यू लगाया गया इसका मुख्य उद्देश देश में भारतीयों के मिजाज तथा इस बदलाव के साथ संतुलन बनाने का एक प्रयास था जिसका पूर्ण समर्थन भारत सरकार को मिला। भारतीय मानसिक रूप से इस लड़ाई के उन्मूलन में सहयोगी बन रहे थे तभी तो विश्व में आज तक जितने भी बंदी हुई, बिना पुलिस प्रशासन का पूर्णतः सफल बंद भारतीयों की इच्छा शक्ति को व्यक्त करती है 


21 मार्च से 21 दिनों के लिए लॉकडाउन लगा दिया गया एक ओर भावी संकट से निटने की योजना बनाई गई तथा दूसरी ओर कोरोना के क्रम को तोड़ने का प्रयास किया गया दोनों तरफ से कार्य प्रगति पर थी धीरे धीरे लॉकडाउन में सब सामान नजर आ रहा थादेश विदेश में प्रदेश गांव में जहां भी भारतीय फंसे थे, रुके थे, लोगों में सब्र था। जिस प्रकार महाभारत की लड़ाई 18 दिनों में लड़ी गई, हम भी जल्दी 21 दिनों की लड़ाई में कोरोना पर विजय प्राप्त कर लेंगे प्राप्त कर भी देते लेकिन प्रजातांत्रिक देश, लोकतांत्रिक देश भारत में देश विरोधी ताकते एक हथियार के रूप में कोरोना का इस्तेमाल करने का संकल्प ले रखी थी जिस कारण कोरोना की लड़ाई के साथ साथ राष्ट्र विरोधी ताकतों से भी लड़ना पड़ा जब राष्ट्र पर संकट आता है तो सभी का ध्यान राष्ट्रअध्यक्ष की ओर जाता है ऐसी स्थिति में भारत ही नहीं, विश्व के अन्य देश भी आशा भरी निगाहों से भारत के राष्ट्रीय अध्यक्ष की ओर देख रहे थेआबादी के घनत्व के दृष्टिकोण से भारत में बड़ी तबाही का संकेत दे रही थी ऐसी विषम परिस्थितियों में राष्ट्र को बचाना एक संकल्प तथा दृढ़ इच्छाशक्ति भरा कार्य था कोरोना के नियंत्रण में राष्ट्र की भूमिका अहम थी इसके प्रभाव को ध्यान में रखकर योजना बनाई गई जिसके तहत रोजगार, यातायात, चिकित्सा, भुखमरी, शिक्षा, प्रशासनिक व्यवस्था, कानून और व्यवस्था, शोध का कार्य, राष्ट्र विरोधी गतिविधियों पर नजर, सांप्रदायिकता पर नजर,आत्मनिर्भर भारत का संकल्प, प्रशासनिक व्यवस्था और सामाजिक व्यवस्था में तालमेल, छात्रों तथा मजदूरों की सुरक्षा, अनलॉक की व्यवस्था, आदि महत्वपूर्ण थी l 


आर्थिक संकट का सबसे ज्यादा प्रभाव रोजगार पर पड़ा  l मजदूरों को काम मिलना बंद हो गया तथा दूसरी ओर इस संकट में मजदूर की वापसी एक संकट के रूप में सरकार तथा राज्य सरकारों के सामने आयी l मजदूरों की वापसी के लिए स्पेशल ट्रेन, बसों द्वारा पहुंचाने की व्यवस्था की गई l सभी राशन कार्ड धारियों को प्रारंभ में 3 महीने का अनाज मुफ्त में दिया गया l राज्य सरकारों द्वारा भी घर घर जाकर आनज़ के पैकेट मुफ्त में बांटे गए l जनधन खातों में सीधे पैसे ट्रांसफर किए गए गैस के पैसे भी खाते में दिए गए l आर्थिक सहायता तथा तीव्र गति से प्रभावित जनसाधारण को आर्थिक संकट से उबारने में सहायक हुई l कुछ राज्यों में हवाई जहाज से भी मजदूरों को लाने की व्यवस्था की गई थी l इसमें झारखंड राज्य का नाम आता है l


आर्थिक संकट से उबरने के लिए घर-घर में मास्क, सैनिटाइजर कीट का निर्माण किया जाने लगा l जिसका हम आयात करते थे आज भारत मास्क, सैनिटाइजर और सेफ्टी किट आदि का निर्माण कर आत्मनिर्भर बना l इससे आर्थिक गतिविधियों को गति मिली, चिकित्सा के क्षेत्र में वेंटीलेटर का उत्पादन आर्थिक गतिविधियों में सहायक रही l चिकित्सा के क्षेत्र में शोध कार्य किया गयाl हजारों शोधकर्ताओं दिन रात मेहनत कर इसकी वैक्सीन की खोज में लगे रहे सरकार द्वारा आर्थिक मदद दी गई ताकि दवाइयां का निर्माण हो सके l 


घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय उड़ान को तत्काल रोका गया जिससे कोरोना को रोका जा सके तथा कोरोना से देश को बचाया जा सके l घरेलू तथा अंतरराष्ट्रीय उड़ान रोकने का मुख्य उद्देश बाहर से आने वाले कोरोना मरीजों से देश को बचाना था जिसमें हम बहुत हद तक सफल रहे l 


शिक्षा के क्षेत्र में गति बना रहे इसके लिए ऑनलाइन शिक्षा की व्यवस्था की गई, जो एक सफल प्रयोग था l विश्वविद्यालय, विद्यालयों में ऑनलाइन शिक्षा अभी भी जारी है, तथा राष्ट्र के द्वारा एक सराहनीय, प्रशासनिक व्यवस्था के तहत केंद्र सरकार तथा राज्य सरकारों के बीच केंद्रीय समिति बनाई गई, जो काफी हद तक प्रभावी रही l राज्यों को विशेष अधिकार दिए गए l कुछ राज्यों ने भी महामारी से रोकने के लिए कारगर कदम उठाए l कानून व्यवस्था की स्थिति सामान्य बना रहे इसके लिए पुलिस प्रशासन, राज्य सरकारों के पुलिस महानिदेशक, केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय लगातार समीक्षा करते हुए कानूनी व्यवस्था की स्थिति को सामान्य बनाए रखने में अहम योगदान दिया l राष्ट्र विरोधी गतिविधियों पर नजर रखकर, राष्ट्र विरोधी ताकते पर कड़ी नजर रखी गई तथा गृह मंत्रालय उन सभी मंत्रालयों को इस पर अंकुश लगाने के लिए गाइडलाइन जारी की l जिस कारण राष्ट्र विरोधी गतिविधियों पर हम अंकुश रखने में कामयाब हो सके l राष्ट्र विरोधी ताकतें देश पर आक्रमण करने की साजिश रच रहे थे l उसे भी राष्ट्र की प्रभावी नीतियों ने निष्क्रिय करने में सहायक हुई सांप्रदायिकता पर नजर चिकित्सीय व्यवस्था को सुनिश्चित बनाए रखने के लिए सांप्रदायिक तनाव पैदा करने वालों सामाजिक संगठनों पर राष्ट्र विरोधी ताकतों को नियंत्रित करने का प्रयास किया गया l जाति विद्वेष फैलाने वालों की हर गतिविधियों पर अंकुश लगाने में हम सफल हो सके जो कोरोना नियंत्रण में सहायक हुई राष्ट्र की ओर से आत्मनिर्भर भारत का संकल्प लिया गया व्यक्ति पूर्ण रूप से आत्मनिर्भर बनें, दूसरों पर निर्भरता कम करने का प्रयास किया गया l आयात को कम करने का प्रयास तथा उद्योगों के द्वारा उत्पादन कर हम आत्मनिर्भर बने l इसके लिए राष्ट्र सरकारों द्वारा आर्थिक पैकेज की घोषणा की गई जिसके तहत हम आज कम पैसे में भी वेंटीलेटर का निर्माण, मास्क, सैनिटाइजर का उत्पादन करने में सफल रहे l प्रशासनिक व्यवस्था के तहत सामाजिक व्यवस्था में तालमेल, राष्ट्र द्वारा प्रधानमंत्री राहत कोष की स्थापना, भारत के सामाजिक संगठनों द्वारा भारी मात्रा में सहायता राशि उपलब्ध कराई गई l जिसका हम कोरोना  नियंत्रण में खर्च किए l प्रशासनिक और सामाजिक तालमेल का सकारात्मक प्रभाव देखने को मिला l  


वंदे मातरम कार्यक्रम के तहत विदेशों में फंसे भारतीयों को लाने का सफल प्रयास किया गया, जिससे इस संकट से हजारों भारतीय अपने वतन सुरक्षित वापस लौटे l यह एक महान प्रयास था l जिसे भारत के राष्ट्र अध्यक्ष की इच्छाशक्ति से कोरोना काल में सहज बनाए रखने में सहायक रही l जब यह पता चला कि कोरोना  हम लोग के बीच ही रहेगा तब धीरे-धीरे अनलॉक 1,2,3,4,5.......10 अभी भी जारी है, और आगे भी जारी रहेगा l इससे आर्थिक गतिविधियों को गति मिल रही है l सारी प्रक्रिया का क्रियान्वयन किया जा रहा है, जिससे सभी राष्ट्र वासी इस गाइडलाइन का पालन कर रहे हैं l यह प्रक्रिया हमें कोरोना नियंत्रण में सहायक सिद्ध होगी l


निष्कर्ष रूप में हम कह सकते हैं कि कोरोना महामारी नियंत्रण में राष्ट्र के द्वारा हर वर्गों को ध्यान में रखकर, आर्थिक गतिविधियों पर नजर रखकर, चिकित्सा व्यवस्था को सर्वोपरि मानकर, सामाजिक समरसता बना कर, शैक्षणिक व्यवस्था की नीति, राष्ट्र विरोधी तत्वों को नियंत्रित कर, सांप्रदायिक सद्भाव बना कर, आत्मनिर्भर भारत का संकल्प, प्रशासनिक व्यवस्था में समरसता, शोध कार्य के लिए प्रधानमंत्री राहत कोष का गठन, कार्ड धारियों को मुफ्त राशन की शुरुआत, एक ठोस व्यवस्था ने कोरोना के प्रभाव को नियंत्रण में हमें राष्ट्र की भूमिका महत्वपूर्ण थी l





0 टिप्पणियाँ